आरटीओ अधिकारी कैसे बनें ? तैयारी कैसे करें – RTO Officer Kaise Bane

346
rto-officer-kaise-bane
rto-officer-kaise-bane

(, आरटीओ अधिकारी () कैसे बनें?)

अक्सर हम दिन-प्रतिदिन के अस्तित्व में समय के अनुसार काम करने पर विचार करते हैं, हमें अपने अलग-अलग काम करने के लिए एक स्थान से शुरू होकर दूसरे स्थान पर जाने की आवश्यकता होती है। हालाँकि, इन दिनों प्रत्येक शहर में, ज्यादा आबादी के विस्तार के कारण सड़क यातायात सभी तरह से परेशान है। इस तरह की कई समस्याओं का प्रबंधन करने और सड़क हादसों को कम करने के लिए, सड़क यातायात सुरक्षा विभाग के अधिकारियों को सार्वजनिक प्राधिकरण द्वारा इन अभ्यासों से निपटने का दायित्व दिया जाता है।

कुल मिलाकर सड़क यातायात सुरक्षा के लिए पुलिस संभाग के अंतर्गत एक नि:शुल्क कार्यालय है, जिसमें कार्य करने वाला अधिकारी RTO Officer होता है। आप में से बहुत से लोग आरटीओ अधिकारी के रूप में एक करियर विकल्प चुनने के इच्छुक होंगे या कुछ व्यक्तियों को इस बिंदु से अवगत होने में रुचि होगी।

लेख द्वारा दिए गए आंकड़ों के तहत, आप RTO Officer के महत्वपूर्ण पह्लूओ में से हर एक से परिचित हो जाएंगे। जिसमें आप इस पद के लिए महत्वपूर्ण योग्यता, RTO Officer के श्रेणी अनुसार विभिन्न पदो के नाम, पद अनुसार RTO Officer को दी जानेवाली सैलरी,, विभिन्न परीक्षा, परीक्षा कार्यक्रम आदि से परिचित होंगे।

आरटीओ अधिकारी कैसे बनें ? तैयारी कैसे करें – RTO Officer Kaise Bane

rto-officer-kaise-bane


महत्वपूर्ण पह्लू :-

  • RTO Officer का फुल फॉर्म –
  • RTO Officer पदो की श्रेणी की समझ –
  • RTO Officer के चयन के लिए परीक्षा –
  • RTO Officer के लिए मौलिक योग्यता –
  • RTO Officer परीक्षा की प्रारूप – र.टी.ो Officer एग्जाम Format
  • RTO Officer परीक्षा की पाठ्यक्रम – Syllabus of र.टी.ो Officer
  • RTO Officer का वेतन –
  • RTO Officer पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – R.T.O अधिकारी पर प्रश्नोत्तरी


आरटीओ अधिकारी (RTO OFFICER) का फुल फॉर्म – Full Form of R.T.O Officer


इस तथ्य के बावजूद कि पूरे भारत में सड़क सुरक्षा और यातायात नियंत्रण संबंधी कानून बना हुआ है, फिर भी सुरक्षा के संबंध में, न केवल यातायात भीड को नियंत्रित करने की आवश्यकता है और असामाजिक गतिविधियों को रोकना भी शामिल है।

कुल मिलाकर आरटीओ का फुल फॉर्म ‘रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस’ है, जिसमें इस कार्यालय के अंतर्गत विभिन्न वर्गीकरण पदों पर कार्य करने वाले अधिकारियों को आरटीओ अधिकारी यानी ‘ रीजनल ट्रांसपोर्ट अधिकारी’ माना जाता है। .

RTO अधिकारी पदो की श्रेणी की समझ – R.T.O Officer Rank


निम्नलिखित में आपको आरटीओ विभाग में मौजूद विभिन्न अधिकारियों का विवरण दिया गया है, जिसमें शामिल हैं-

  • परिवहन आयुक्त (Transport Commissioner)
  • अतिरिक्त परिवहन आयुक्त (Additional Transport Commissioner)
  • संयुक्त परिवहन आयुक्त (Joint Transport Commissioner) 
  • डिप्टी परिवहन आयुक्त – निरीक्षण (Deputy Transport Commissioner)
  • असिस्टंट कमिशनर पुलिस आयुक्त – सतर्कता अधिकारी (Assistant Commissioner of Police)
  • सड़क अधिकारी (Road Officer)
  • डिप्टी आयुक्त -लेखा विभाग ( Deputy Commissioner- Account Department)
  • डिप्टी आयुक्त -कंप्यूटर विभाग (Deputy Commissioner- Computer Department)
  • जनसंपर्क अधिकारी (Public Relation Officer)
  • इंजन वाहन निरीक्षक (Motor Vehicle Inspector)
  • इंजन वाहन उप निरीक्षक / सहायक निरीक्षक (Motor Vehicle Sub Inspector/Assistant Inspector)
  • आरटीओ सहायक अभियंता (RTO Assistant Engineer)
  • आरटीओ क्लर्क (R.T.O Clerk)
  • आरटीओ न्यायिक अधिकारी (R.T.O Judicial Officer)


आरटीओ अधिकारी के चयन के लिए परीक्षा – Exam for RTO Officer


मुख्य रूप से, भारत के विभिन्न क्षेत्रों में मौजूद राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा, आरटीओ कार्यालय के आधिकारिक पदों के विभिन्न ऑफिसर पदो हेतू उम्मिद्वार का चयन किया जाता है।

इसके अलावा, राज्य पुलिस सेवा में निचले स्तर पर काम करने वाले अधिकारियों को कुछ वर्षों के लिए सड़क यातायात विभाग में सेवा देने के लिए प्रत्यायोजित किया जाता है, जो सड़क अधिकारी के रूप में कार्य करते हैं।

कुछ विशेष पदों के लिए, उदाहरण के लिए, आरटीओ क्लर्क (R.T.O Clerk), मूल्यांकन का नेतृत्व सड़क परिवहन विभाग द्वारा स्वतंत्र रूप से किया जाता है, जिसमें सफल छात्रो का चयन किया जाता है।


आरटीओ अधिकारी के लिए मौलिक योग्यता – Eligibility for RTO Officer


नीचे कुछ योग्यता मानदंड दिए गए हैं, जिन्हें पुरा करने के बाद आप आरटीओ अधिकारी के लिए राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

  • इच्छुक आवेदक की आधार आयु 19 वर्ष है और अधिकतम आयु 38 वर्ष तक होनी चाहिए, इस आयु में पिछड़ी जातियों/जनजातियों, अन्य पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत आने वाले अप-एंड-कॉमर्स को छूट दी जाती है। कक्षाएं। यहां, रिवर्स क्लास में अन्य के लिए 3 साल और जाती/जनजाती के लिए 7 साल,
  • यहां आधार निर्देश योग्यता मानकों में, किसी भी प्रशिक्षण स्ट्रीम से स्नातक / /बैचलर डिग्री पास करना महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • परीक्षा के लिए इच्छुक आवेदक को संबंधित राज्य का निवासी होना चाहिए, जिसके लिए संबंधित राज्य का डोमाईसील प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है।
  • किसी भी कथित शिक्षा संस्थान/ युनिवर्सिटी के तहत स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है।

उपरोक्त मानदंडो के अलावा अन्य कुछ पदो हेतू आवश्यक पात्रताए निचे दिए हुए तौर पर है, जैसे के-

आर.टी.ओ असिस्टंट इंजिनियर- RTO Assistant Engineer Qualification


इच्छुक प्रतियोगी की आयु 21 वर्ष से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
ऐसे प्रतियोगी को ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग या सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक उत्तीर्ण होना चाहिए।

किसी भी कथित शिक्षा संस्थान/ युनिवर्सिटी के तहत स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है।
इच्छुक आवेदक भारत का निवासी होना चाहिए।


आरटीओ क्लर्क (R.T.O Clerk) – आरटीओ क्लर्क Qualification

  • इच्छुक आवेदक भारत का निवासी होना चाहिए।
  • कम से कम बारहवीं कक्षा या समकक्ष परीक्षाको उत्तीर्ण करना आवश्यक है।
  • इस पद के लिए प्रतियोगी की आधार आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 37 वर्ष तक होनी चाहिए।
  • यहां आवश्यक टंकन स्पीड मांगी गई है, जिसमें प्रतियोगी के पास प्रति मिनट दिशा निर्देशित शब्द टाइप करने का सक्षम होना चाहिए।


इंजन वाहन निरीक्षक (Motor Vehicle Inspector) Qualification

  • इस पद के लिए, आवेदक को मैकेनिकल/ऑटोमोबाइल/प्रोडक्शन इंजीनियरिंग स्ट्रीम में कम से कम बैचलर/बैचलर सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स पास होना चाहिए।
  • इच्छुक प्रतियोगी की आधार आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 35 वर्ष होनी चाहिए।
  • ऐसा प्रतियोगी भारत का निवासी होना चाहिए।
  • आरटीओ में इंस्पेक्टर/सब-इंस्पेक्टर वगैरह के पदों के लिए पुरुष संभावना के लिए आधार लंबाई 163 सेंटीमीटर और बेस चेस्ट चौड़ाई 79 सेंटीमीटर होना जरूरी है। इसमें, छाती में फुलाने के मद्देनजर, चौड़ाई में 5 सेमी तक की वृद्धि कुछ हद तक सामान्य है।
  • यहां महिला प्रतियोगी का आधार कद 155 सेमी है, वही वजन कम से कम 45 किलो होना चाहिए।


जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि राज्य पुलिस सेवा में निचले स्तर पर कार्यरत अधिकारियों का चयन सड़क यातायात विभाग में सड़क अधिकारी के पद पर होता है.

इसके अलावा, राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा कक्षा 1 से कक्षा 3 तक के अधिकारियों का चयन किया जाता है, जैसे कि पहले कार्यालय के तहत काम करने वाले कुछ अधिकारियों को कुछ वर्षों के बाद इस डिवीजन के सबसे उल्लेखनीय पदों पर पदोन्नति द्वारा उच्चतम पदो पर नियुक्त किया जाता है।

RTO Officer हेतू परीक्षा का प्रारूप –


संयोग से, भारत के प्रत्येक राज्य मे क्षेत्रीय परिवहन / यातायात विभाग के अधिकतर उच्च स्तर पद भर्ती को राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा पुरा किया जाता है, जिस हेतू आयोजित किए जानेवाले परीक्षा का प्रारूप निम्नलिखित के अनुसार होता है –

  • पूर्व परीक्षा (चरण 1)
  • मुख्य परीक्षा (चरण 2)


उपरोक्त दोनों चरणों को प्रभावी ढंग से पारित करने वाले उम्मिद्वारो की प्राप्त अंको के अनुसार आयोग की प्राधिकरण साइट पर सूची जारी किया जाता है, जहां प्रतियोगियों को जातीगत वर्ग द्वारा प्राप्त अंक  के आधार पर चुना जाता है।

यहां कुछ राज्यों में साक्षात्कार को अंतिम चरण के रूप में नेतृत्व किया जाता है, कुछ राज्यों में इसे निकाला जाता है, फिर भी हम पाठ्यक्रम डेटा के दौरान साक्षात्कार के चरण के बारे में जानकारी देंगे।

R.T.O परीक्षा की पाठ्यक्रम –


नीचे हमने आरटीओ अधिकारी के लिए राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा निर्देशित परीक्षा का पाठ्यक्रम और अन्य डेटा विस्तृत रूप से दिया है, जो निम्न के अनुसार है –

प्राइमरी परीक्षा प्रारूप और पाठ्यक्रम –Preliminary Exam Format

  • सामान्य अध्ययन / सामान्य अध्ययन – 50 अंक
  • बौद्धिक एबिलिटी/पात्रता – 30 अंक
  • ऑटोमोबाइल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग से संबंधित करेंट अफेयर्स – 20 अंक
  • प्री-टेस्ट के लिए उदाहरण के लिए 1 घंटे का योग निर्धारित किया गया है, जिसमें 100 प्रश्नो को हल किया जाना चाहिए।

मुख्य परीक्षा प्रारूप और पाठ्यक्रम – Main Exam Format

  • खंड ए – ऑटोमोबाइल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग (कुल प्रश्न संख्या 120, कुल अंक 240)
  • खंड बी – मैकेनिकल इंजीनियरिंग (कुल प्रश्न संख्या 30, कुल अंक 60)
  • खंड सी – ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग (सेक्शन सी) – (कुल प्रश्न संख्या 30, कुल अंक 60)


यहां मुख्य परीक्षा में क्षेत्र ए की अनिवार्य होती है, जिसको मुख्य परीक्षा के लिए अनिवार्यता से शामिल किया गया होता है, वही सेक्शन B और सेक्शन C मे से किसी भी एक का चयन करना होता है। यह परीक्षा कुल 300 अंक का है, जिसके लिए डेढ़ घंटे का समय निर्धारित किया गया है।

प्री परीक्षा का पाठ्यक्रम – Preliminary Exam Syllabus

  • सामान्य अध्ययन/सामान्य अध्ययन – सामान्य अध्ययन
  • (संबंधित राज्य, भारत और दुनिया के महत्वपूर्ण अवसरों के साथ समसामयिक पहचान), इतिहास (संबंधित राज्य, भारत का इतिहास और विश्व इतिहास के महत्वपूर्ण अवसर), भूगोल, भारत का राजनीति विज्ञान, सामान्य विज्ञान, भारतीय सामाजिक सुधार / परिवर्तन और औद्योगिक विकास और आगे ..
  • विद्वतापूर्ण योग्यता/पात्रता – मानसिक योग्यता।
  • आमतौर पर इस पेपर में सोच-समझकर सवाल पूछे जाते हैं, इसके अलावा आपको अपने अंदर मौजूद क्षमताओं को जगाने के लिए अलग-अलग समझदार मुद्दों पर निर्भर प्रश्नों को निपटाने की जरूरत है।
  • ऑटोमोबाइल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग से संबंधित करेंट अफेयर्स – ऑटोमोबाइल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में रुझान।


इस पेपर में, वर्तमान परिस्थितियों में घटनाओं, रीमॉडेल और कार और मैकेनिकल डिजाइनिंग के साथ पहचाने जाने वाले अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों से पहचाने जाने वाले प्रश्न पूछे जाते हैं।


मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम – Mains Exam Syllabus

  • खंड ए की अनुसूची – 1. यांत्रिक प्रौद्योगिकी 2. दबाव के माध्यम से शक्ति 3. सामग्री की ताकत 4. ऑटो मोटर 5. यांत्रिकी की परिकल्पना 6. आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक्स 7. गर्म डिजाइनिंग
  • खंड बी की अनुसूची – 1. आधुनिक डिजाइनिंग 2. जल संचालित हार्डवेयर 3. प्रशीतन और एयर कंडीशनिंग
  • सी सेक्शन की अनुसूची – 1. परिवहन प्रबंधन। ऑटो ढांचा 3. वाहन रखरखाव


जैसा कि आपको पहले बताया जा चुका है कि मूल्यांकन के लिए सेक्शन बी और सेक्शन सी में से किसी एक को चुनने का विकल्प अप-एंड-कॉमर्स को दिया जाता है, जिसमें आप आवेदन करते समय आराम से बताए गए पेपर को चुन सकते हैं।

साक्षात्कार के साथ बात करें: – भारत के कुछ क्षेत्रों में, इस डिवीजन के कुछ पदों के लिए साक्षात्कार का समन्वय किया जाता है, इसलिए अक्सर मौलिक मूल्यांकन के आधार पर अप-एंड-कॉमर का चयन किया जाता है।

यह जानने के लिए कि साक्षात्कार आरटीओ के किन पदों के लिए हो रही है, उस समय, उस राज्य की आरटीओ शाखा की अलग-अलग साइट पर जाकर, जहां आप निवास करते हैं, यह डेटा प्राप्त करने के लिए एक उपयुक्त अग्रिम होगा। ऐसा होता है।

राज्य द्वारा बताए गए शेड्यूल में कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं, इसलिए जिस भी समय आपको आरटीओ के किसी भी पद के लिए आवेदन करने की आवश्यकता हो, सबसे पहले अपने राज्य के संबंधित डिवीजन की प्राधिकरण साइट पर जाएं।

इससे आपको पोस्ट के अनुसार दूरगामी और सही समय सारिणी मिल जाएगी, जिससे आपके लिए इस परीक्षा की तैयारी करना आसान हो जाएगा।

आरटीओ अधिकारी का वेतन – Salary of R.T.O Officer


संयोग से, आरटीओ कार्यालय में अलग-अलग पदों पर अधिकारी कार्य कर रहे हैं, जिसमें हर साल निचले पद से लेकर उच्च पद के लिए लगभग दो लाख रुपये से आठ लाख रुपये तक वेतन दिया जाता है।

R.T.O अधिकारी पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – R.T.O अधिकारी पर प्रश्नोत्तरी


प्र. आरटीओ संभाग के सभी महानतम पदों में से प्रत्येक को किस माध्यम से भर्ती किया जाता है?
उत्तर: राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा।

प्र. RTO Officer में किस पद को अतुलनीय पद माना जाता है?
उत्तर : परिवहन आयुक्त (Transport Commissioner) पद ।

प्र. RTO Officer बनने के लिए कम से कम शिक्षा पात्रता का मानदंड की आवश्यकता है?
उत्तर: कुछ पदों के लिए संबंधित स्कूलिंग स्ट्रीम जैसे डिप्लोमा इन मेकेनिकल/ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग पास होना जरूरी है, इसके अलावा अधिकतर पदो के लिए ग्रेजुएशन की परीक्षा खत्म होना जरूरी है।

प्र. RTO का फुल फॉर्म क्या है?
उत्तर: रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय )।

अन्य लिंक्स :-

पटवारी बनने का सबसे कारगर तरीका?, पटवारी कैसे बने?– Patwari Kaise Bane ?

Realme Mobile me app hide kaise kare?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here