Olympics 2020:प्रतीक,आयोजन,इतिहासऔर महत्व The Olympics Essay

1676
Olympics-2020
Olympics-2020

2020:प्रतीक,आयोजन,इतिहासऔर महत्व ( Essay)(Olymp trade)(Olympic games)(Olympic flag)

ऐतिहासिक रूप से, ओलंपिक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत ही महत्वपूर्ण घटना है जो दुनिया भर के लोगों को एकजुट करती हैं। और व्यक्तिगत, राष्ट्रीय और वैश्विक पहचान को आकार देती हैं।ओलंपिक न केवल खेल जीवन बल्कि वैश्विक समुदाय के सांस्कृतिक जीवन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ओलंपिक में दुनिया भर के राष्ट्र शामिल होते हैं। हर चार साल में एक बार और हर बार अलग-अलग स्थानों पर आयोजित किए जाते हैं। हर बार दो स्थानों का चयन किया जाता है-एक शीतकालीन ओलंपिक की मेजबानी के लिए और दूसरा ग्रीष्मकालीन ओलंपिक के लिए।

Olymp trade

ओलम्पिक खेलों में भाग लेना बहुत ही विशेष सम्मान की बात है।प्रतिभागी इस विशेष आयोजन में भाग लेने के लिए वर्षों का प्रशिक्षण लेते हैं। समर्पण, कौशल, प्रेरणा, कड़ी मेहनत और जीतने की इच्छा ओलंपिक खेलों में भाग लेने का सपना देखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए सही फॉर्मूले का एक हिस्सा है।ओलंपिक खेलों में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा ओलंपिक खेलों के रूप में पंजीकृत सभी खेल शामिल हैं। इसी समय, ओलंपिक न केवल खिलाड़ियों को बल्कि दर्शकों को भी आकर्षित करता है, जो खेल में रुचि रखते हैं और जो या तो उस क्षेत्र में ओलंपिक में भाग लेते हैं, जहां वे होते हैं, या ओलंपिक खेलों के प्रसारण देखते हैं।

राष्ट्रीय स्तर पर, लोग अपनी राष्ट्रीय टीमों और ओलंपिक में अपने देशों का प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ियों का समर्थन करने वाले प्रशंसकों के कल्पित समुदाय में भी एकजुट हो सकते हैं। ऐसे में लोग राष्ट्र के रूप में अपनी एकता को महसूस करते हैं क्योंकि उन्हें समुदाय के प्रति अपनेपन की प्रामाणिक अनुभूति होती है, जहां वे राष्ट्र का हिस्सा होने का अनुभव कर सकते हैं। ओलंपिक देशभक्ति की प्रेम और भावनाओं को बढ़ाता है। आज हम अपने इस लेख में आपको ओलंपिक खेलो के आयोजन, इतिहास और महत्व के बारे में बता रहे है।

Olympics का इतिहास :-

आज से 3000 साल पहले, लॉर्ड ज़ीउस के सम्मान में प्राचीन खेल होते थे। यह सब ग्रीस में पेलोपोनिस प्रायद्वीप के पास ओलंपिया नाम के एक शहर से शुरू हुआ था। ओलंपिक पहली बार 776 ईसा पूर्व में आयोजित किए गए थे। ये खेल 8वीं शताब्दी ईसा पूर्व से चौथी शताब्दी ईस्वी तक हर 4 साल में आयोजित किए जाते थे।

ओलिंपिक को नाम ग्रीस में ओलंपिया के स्थान के कारण दिया जा गया है ,जहां से इसे शुरू किया गया था।सन् 393 में, प्राचीन ओलंपिक खेलों को रोक दिया गया था। और फिर दुबारा शुरू होने में 1500 साल लग गए। और 1896 में एथेंस, ग्रीस में पहला आधुनिक ओलंपिक हुआ। यह बैरन पियरे डी कौबर्टिन नाम के एक फ्रांसीसी व्यक्ति के प्रयासों के कारण संभव हुआ।

नए Olympics का इतिहास :-

सन्1924 में यह पहला मौका था जब पेरिस में 8वां ओलंपिक खेलो का आयओजन हुआ था। यह पहली बार था जब ओलंपिक ग्रीस के बाहर कहीं भी आयोजित किए गए थे। उस समय के ओलंपिक खेलों में 100 महिलाओं और दुनिया भर से कुल 3000 प्रतियोगी शामिल हुए थे। इससे ओलंपिक का स्तर बढ़ने लगा। और यही से यह हर देश के लिए प्रतिष्ठा का विषय बन गया। हर देश ओलंपिक का हिस्सा बनना चाहता है। प्रारंभ में, 14 देशों के प्रतियोगियों ने पहले आधुनिक ओलंपिक में भाग लिया था ।

Olympics मशाल :-

ओलिम्पिक मशाल को 1928 के ओलिम्पिक खेलों में सम्मिलित किया गया था। Olympic games के दौरान ओलिम्पिक मशाल का प्रयोग ओलिम्पिक को प्रज्वलित करने के लिए किया जाता है। इस मशाल को यूनान के ओलम्पिया में जलाया जाता है तथा विमानों तथा समुंद्री जहाजो की मदद से से प्रयोजक देश तक पहुंचाया जाता है। मशाल के साथ को धावक स्टेडियम में प्रवेश करता है तथा ज्वाला को प्रज्वलित करता है। ज्वाला के प्रज्वलित होते ही ओलिम्पिक खेले आरम्भ हो जाते है।

पहला Olympics ध्वज :- Olympic flag

सन् 1920 में, पहला ओलंपिक ध्वज प्रस्तुत किया गया था। ध्वज में एक सफेद पृष्ठभूमि पर पांच परस्पर जुड़े हुए छल्ले होते हैं। प्रत्येक छल्ला पांच प्रमुख महाद्वीपों में से एक के लिए खड़ा है जो इस बात का प्रतीक हैं कि दुनिया इस अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के माध्यम से शांति की दिशा में काम कर सकती है। छल्ले नीले, पीले, काले, हरे और लाल हैं। इन रंगों को इसलिए चुना गया क्योंकि इनमें से कम से कम एक दुनिया के हर देश के झंडे पर दिखाई देता है।

उद्घाटन समारोह :-

ओलंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह में, कई एथलीटों को ओलंपिक लौ को ध्वजांकित करने के लिए चुना जाता है। यह लौ आखिरी ओलंपिक खेल तक जलती रहती है। खेल में भाग लेने वाला प्रत्येक खिलाड़ी एक शपथ लेता है,की वह अपनी ईमानदारी से खेलेगा और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेगा। जिसे आमतौर पर ओलंपिक शपथ के रूप में जाना जाता है।

पदक समारोह :-

प्रतिभागीयो को पहले तीन विजेताओं को पुरस्कारो से खेल में उनकी स्थिति के अनुसार स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक से सम्मानित किया जा रहा है। खेलों के प्रत्येक आयोजन के अंत में पदक दिए जा रहे हैं। एथलीटों का चयन उनके देश, ओलंपिक खेलों का प्रतिनिधित्व करने के लिए सम्मानित देश के खेल प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा है। अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए बेहतरीन एथलीट का चयन करना देश के खेल प्राधिकरण का कर्तव्य है। जो कोई भी प्रत्येक खेल आयोजन के अंत में जीतता है,उन्हें खेल के मैदान में उनके देश के राष्ट्रगान के साथ पदक दिए जाते हैं।

भारत का Olympics खेलों का इतिहास :-

भारत 1900 से ओलंपिक में भाग ले रहा है। इसने ओलंपिक में हॉकी में कुछ शानदार प्रदर्शन किया है। भारतीय ने हॉकी में आठ स्वर्ण पदक जीते हैं। हमने हॉकी में 11 मेडल जीते हैं- आठ गोल्‍ड, एक सिल्‍वर और दो ब्रॉन्‍ज मेडल। साल 1900 से 2016 तक भारत ने ओलंपिक में अब तक कुल 28 पदक अपने नाम किए हैं। इनमें नौ गोल्‍ड, सात सिल्‍वर और 12 कांस्‍य यानी ब्रॉन्‍ज मेडल शामिल हैं।

Olympics खेलों के महत्व :-

किसी भी देश ओर देशवासियों के लिए ओलिम्पिक बहुत अधिक महत्वपूर्ण हैं। ओलम्पिक खेलें अंतराष्ट्रीय भावना को जाग्रत करते है। इन खेलों से राष्ट्र की प्रतिष्ठा में वृद्धि होती है। देश को नोजवानों तथा नावयुबतियो में राष्ट्रहित की भावना जागृत होती है। ये खेलें शांति तथा न्याय को प्रोत्साहित करते है। खेलों में भाग लेने से शारिरिक, मानसिक एवं भाबनात्मक बिकास होता है। ओलम्पिक गतिविधियां अपनी प्रकृति से विशव में युद्ध का विरोध करती है। आय तथा रोजगार के स्त्रोत में बढ़ोतरी होती है।

समापन समारोह :- (Olymp trade)

16 दिनों तक चलने वाले इन खेलों का समापन समारोह साधारण लेकिन बहुत ही प्रभाबशाली तरीके से होता है। समान समारोह के समय सभी देशो के खिलाड़ी मार्च करते हुए स्टेडियम के मध्य में एकत्र हो जाते है। और इसके पश्चात तीन ध्वज फहराए जाते है –

  1. पहले यूनान के ध्वज को यूनान के राष्ट्रीय गीत के साथ फहराया जाता है।
  2. मेजबान देश का ध्वज उसके राष्ट्रीय गीत के साथ फहराया जाता है।
  3. अगले ओलिंपिक खेलों के मेजबान देश का ध्वज उसके राष्ट्रीय गीत के साथ फहराया जाता है।

हम आशा करते है की हमारे दुवारा दिया गया जानकारी आपको पसंद आया होगा ।

Olympics 2020:प्रतीक,आयोजन,इतिहासऔर महत्व (The Olympics Essay)(Olymp trade)(Olympic games)(Olympic flag)

अन्य लिंक्स :-

वजन घटाने व मोटापा कम करने केअसरदार घरेलू उपाय।

Top 5 Useful Apps for iPhone & Android

6 COMMENTS

  1. COVID-19 महामारी बढ़ने की संभावना के बाद टॉप 5 New Business आइडियाज - CASH BOOST

    […] ओलंपिक खेल : प्रतीक ,आयोजन, इतिहास और मह… […]

  2. भारत के राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास व महत्त्व निबंध। Essay on National Flag in Hindi - CASH BOOST

    […] ओलंपिक खेल : प्रतीक ,आयोजन, इतिहास और मह… […]

  3. COVID-19 महामारी बढ़ने की संभावना पर 5 New Business ideas - CASH BOOST

    […] ओलंपिक खेल : प्रतीक ,आयोजन, इतिहास और मह… […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here