Loose Motion दस्त घरेलु ईलाजDiarrhea Home Treatment in Hindi

591
Loose Motion
Loose Motion

आज हम बात करेंगे के बारे में ,यह (दस्त) एक ऐसी बीमारी हैं जो बारिस के मौसम के दौरान सबसे ज्यादा होती हैं। Loose Motion (दस्त) को ही हम (डायरिया) भी कहते हैं। यह ऐसी बीमारी हैं जो किसी भी उम्र के लोगो को हो जाती हैं। दस्त होने पर हमारे शरीर के अंदर का पूरा पानी निकल जाता है और हम कमजोर हो जाते है।जो लोग काम पानी पीते हैं ,खासतौर पर बच्चे उनमे ये समस्या जयादा होती हैं।

गर्मी ज्यादा लग जाये या सर्दी ज्यादा लग जाये ,या हम कुछ उल्टा सीधा खाने पिने के कारण या वायरस और बैक्टीरिया के कारण हमारा पाचनतंत्र सही से काम नहीं करता हैं। तो पेट में ऐठन ,मरोड़ और दस्त हो जाते हैं। समय से इसका इलाज नहीं करने पर ये समस्या गंभीर भी हो जाती हैं। आईये आज हम Loose Motion (दस्त) की समस्या के लिए ो के बारे में बताते हैं।

दस्त क्या है(What is Diarrhea or Loose Motion ):-

किसी कारण से हमारा पाचनतंत्र सही से काम नहीं करता हैं। जिसके कारण हमारा खाना अच्छे से नहीं पच पता हैं तो वह पतले रूप में शरीर से बार बार बहार निकलने लगता हैं। इसे ही Loose Motion (दस्त) डायरिया कहते हैं।इससे हमरे शरीर में जरुरी पोषक तत्व की और पानी की कमी होने लगती हैं। इसलिए इसका समय से इलाज होना जरुरी होता हैं।

दस्त की समस्या के कारण ( ):-

  • ख़राब या बासा भोजन करना
  • ज्यादा तेल वाला या मिर्च मसाले वाला भोजन करना
  • दूषित पानी के सेवन से या पानी का सेवन कम करना
  • पाचन तंत्र का सही ढंग से काम ना करना
  • शराब अधिक पीना
  • किसी दवाई के सेवन से
  • वायरस और बैक्टीरिया

दस्त के लक्षण ():-

  • पेट में बार बार ऐठन और मरोड़ होना
  • उलटी का होना
  • बार बार शौच के लिए जाना
  • शौच में खून का आना
  • बुखार का होना
  • ठण्ड का लगना
  • पाचनतंत्र सही से काम नहीं करना
Loose Motion

दस्त का घरेलू ईलाज ( , ):-

नीम्बू पानी :-

दस्त में पानी को ज्यादा पीना चाहिए। इसमें निम्बू के रूस में नमक और चीनी मिलकर बार बार सेवन करे। निम्बू में प्राकर्तिक रूप से एसिड होता हैं। यह पैट की साडी गंदगी को साफ करके इसे ठीक करने में मदद करता हैं।

दही :-

दही में बैक्टीरिया बहुत ज्यादा होता हैं। ये बैक्टीरिया हमारे पैट के लिए बहुत अच्छे होते हैं। ये दस्त की समस्या को जल्दी ख़तम कर देते हैं। साथ ही पानी की पूर्ति भी करते हैं।

छाछ :-

छाछ में मौजूद एसिड बैक्टीरिया पेट के रोगाणु से लड़ने में मदद करता है| 1 गिलास छाछ में 1 tsp नमक, थोड़ी सी जीरा पाउडर, काली मिर्च मिलाकर दिन में 2-3 बार छाछ को पियें इससे आपको बहुत लज्दी आराम मिलेगा।

केला :-

केला में पोटाशियम ज्यादा मात्रा में होता हैं जो हमरे पैट के लिए बहुत ही ज्यादा अच्छा होता हैं। आप केला को नमक लगाकर सेवन कर सकते हैं।

अदरक :-

अदरक में antibactiria और antifungal तत्व होते है जो पेट के दर्द और loose motion में आराम देते है| आप 1 कप छाछ में ½ tsp सूखा अदरक का पाउडर और सोंफ को मिलकर दिन में 2-3 बार पियें।

सौंफ :-

10 ग्राम जीरा में 10 ग्राम सौंफ मिलकर इसका चूर्ण बना ले और इसे अपनी या छाछ में मिलाकर सेवन करे।

दस्त में क्या खाये:-

  • पानी को उबालकर और ठंडा करके पिए
  • दलीय और दाल आदि पतला और हल्का भोजन खाये
  • शराब कासेवन न करे
  • ज्यादा तला और देर से पचने वाला भोजन न करे

दस्त की अंग्रेजी दवा( ,):-

आप दस्त में ORS का पैकेट बाजार से लेकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

ओटीसी एंटीडाएरीयल दवाई का आप इस्तेमाल कर सकते हैं।

अगर ऊपर दिए गए घरेलू ईलाज से आपको फायदा नहीं होता हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाकर सलाह ले। क्योंकि इस समस्या में ज्यादा देर करना उचित नहीं होता हैं।

FAQ

Q : दस्त क्या हैं ?
Ans : दस्त हमारे शरीर के पाचन तंत्र में होने वाली गड़बड़ हैं।

Q : दस्त के समय कमजोरी क्यों महसूस होती हैं?
Ans : दस्त के समय शरीर में पानी की कमी हो जाती हैं , जिसके कारण कमजोरी महसूर होती है।

Q : दस्त में अंग्रेजी दवा कौन सी लें ?
Ans : दस्त में आप ओआरएस पाउडर पानी में घोल कर पी सकते है।

अन्य लिंक्स :-

Stretch Marks Hatane Ke Gharelu Upay in Hindi

How To Chat Without Opening WhatsApp

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here