Gathiya Arthritis rog Treatment In Hindi गठिया अर्थराइटिस रोग का घरेलु इलाज

705
Gathiya Arthritis rog
Gathiya Arthritis rog

दोस्तों हम इस लेख में जानेंगे की । यानि की गठिया अर्थराइटिस रोग का घरेलु इलाज । गठिया जोड़ों की सूजन है। गठिया की बीमारी से परेशान लोगों को इतना भयानक दर्द होता है, कि वे बैचैन हो जाते है। गठिया में यूरिक एसिड के क्रिस्ट्ल्स जोड़ो में जमा हो जाते है। यह समस्या तब होती है। जब शरीर में सामान्य से अधिक यूरिक एसिड बनाने लगता है।

गठिया सबसे अधिक 65 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में देखा जाता है। लेकिन यह किशोर और छोटे वयस्कों में भी विकसित हो सकता है।तो चले आज का लेख शुरू करते हैं।आज हम आपको हैंल्थ से जुडी कुछ जानकारी बताने वाले हैं। आइये गठिया रोग के घरेलु उपचार के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते है।

नमस्कार दोस्तो आप सब का हमारे ब्लॉग पर स्वागत है। यहां पर बिज़नेस ,हेल्थ ,फाइनेंस ,हिंदी essay ,तकनीक और इंटरनेट से जुडी जानकारी शेयर करते रहते हैं। अगर आप उन्हे मिस नहीं करना चाहते तो हमारे ब्लॉग की notification को bell icon दबाकर subscribe कर लें।

rog ke lakshan (गठिया अर्थराइटिस रोग का लक्षण ) :-

यह जोड़ो में होने वाली एक सूजनकारी बीमारी है। जिसमें जोड़ों में अत्यधिक दर्द ,जोड़ों को घुमाने, मोड़ने और कोई भी गतिविधि करने में परेशानी होती है। दर्द के साथ साथ कुछ और लक्षण होते है, जैसे सुजन,जोड़ो के आस पास लाल होना,पीड़ा, जलन आदि। गठिया में तकलीफ इतनी बढ़ जाती है कि ये शरीर के जोड़ो में दर्द और सूजन के साथ बुखार भी आता हैं।

Gathiya Arthritis rog Treatment In Hindi (गठिया अर्थराइटिस रोग का घरेलु इलाज) :-

गठिया का मुख्य कारण गलत खान पान होता है। जैसे अधिक मात्रा में मांस, मछली, अत्यधिक मसालेदार भोजन ,शराब और फ्रूक्टोज युक्त पेय पदार्थों का सेवन। जिससे शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ जाता हैं। आज हम आपको इसका प्राकतिक घरेलु उपचार बताते है। आप घर में ही अपने खान पानको ठीक करके इस बीमारी से लड़ सकते है।

लहसुन :-

लहसुन रक्त को साफ़ करता है। लहसुन की दो या चार कालिया को रोज खाना चाहिए। इससे गठिया के दर्द से आराम मिलता है। आप लहसुन की कालिया को राई और जैतून के तेल में गर्म करके अच्छे से जोड़ो की मालिश करें। ऐसा कम से कम दो हफ्ते करे। इससे गठिया का दर्द जल्द दूर होता हैं । इससे शरीर को किसी तरह का नुकसान नहीं होता है।

अदरक :-

अदरक घर में आसानी से मिलने वाली चीज है। इसकी मदद से गठिया का दर्द ठीक किया जा सकता है। इसमें हम सब्जी, सुप, अदरक का रस इत्यादि का सेवन कर सकते हैं ।

हल्दी दूध :-

हल्दी में सूजन पैदा करने वाली प्रक्रियाओं को रोकने की क्षमता होती है। आप गर्म दूध में हल्दी डालकर सोने से पहले पियें। हल्दी दूध के सेवन से अर्थराइटिस के दर्द बहुत जल्दी राहत मिलती है।

मैथी :-

आप मेथी, हल्दी तथा सोंठ को बराबर मात्रा में लेकर उसका पाउड़र बना लें। इसे सुबह-शाम 1-1 चम्मच पाउड़र को गुनगुने पानी या दूध के साथ सेवन करें। इसका प्रयोग करने से ज़ोड़ों के दर्द एवं सूजन में लाभ मिलता है।

अश्वगंधा का चूर्ण :-

अश्वगंधा प्राकृतिक रूप से औषधीय है। यह सभी तरह के दर्द के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कहते हैं गठिया के दर्द को दूर करने के लिए अश्वगंधा का चूर्ण का सेवन करना चाहिए। आपको अश्वगंधा के चूर्ण को पानी में मिलाकर सुबह और शाम को पीना चाहिए। इससे जल्दी दर्द से राहत मिलता है।

मूली :-

मूली के सेवन से घुटने तथा शरीर के विभिन्न जोड़ों की जकड़न दूर होती है।

एलोवेरा :-

एलोवेरा के गुदे को लहसुन के साथ मिलाकर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को दर्द वाली जगह लगाने से आराम मिलता है।

पानी अधिक पीना :-

अधिक पानी पीने से आपको आधिक पेशाब होगी। जिससे पेशाब के रास्ते धीरे-धीरे यूरिक एसिड पेशाब के द्वारा बाहर निकल जाता है। यह हमारे शरीर को गठिया से बचाता है।

Conclusion :-

दोस्तो आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद करते हैं की आपको हमारा लेख पसंद आया होगा। जिसमे हमने आपको बताया है की Gathiya Arthritis rog Treatment In Hindi गठिया अर्थराइटिस रोग का घरेलु इलाज। इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। कुछ पूछना हो तो comments में पूछ सकते हैं। इस तरह की और updates के लिए आप notification subscribe कर सकते है।

अन्य लिंक्स :-

WordPress Website ko Secure Kaise Kare

Bank ka IFSC Code kaise pta kare?

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here