E-cigarette is good for us?-ई-सिगरेट हमारे लिए अच्छा है?

120
E-cigarette-is-good-for-us
E-cigarette-is-good-for-us

is good for us

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट में निकोटीन का घोल होता है जिसे बैटरी से गर्म किया जाता है। इससे ई-सिगरेट का उत्पादन होता है। यह मस्तिष्क को धूम्रपान की तरह महसूस करने का कारण बनता है। पिछले कुछ वर्षों में दुनिया भर में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का उपयोग बढ़ा है। हालांकि यूरोप समेत दुनिया भर के कई देशों में सिगरेट पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

️शोधकर्ताओं का कहना है कि जो लोग ई-सिगरेट पीते हैं उन्हें स्वास्थ्य जोखिम होता है। द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक पत्र में कहा गया है कि ई-सिगरेट में एंटीसेप्टिक फॉर्मलाडेहाइड होता है, जो एक कार्सिनोजेन है।

कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा 26 जनवरी को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ई-सिगरेट इंसानों के लिए खतरा है और इसे कानून के तहत लाया जाना चाहिए। ई-सिगरेट कितने सुरक्षित हैं, इस पर एक रिपोर्ट स्वास्थ्य वेबसाइट वेबएमडी पर प्रकाशित की गई है। आइए जानें कि ई-सिगरेट में क्या है।

️शोधकर्ताओं का कहना है कि ई-सिगरेट में क्या है इसका कोई आसान जवाब नहीं है। क्योंकि ई-सिगरेट बनाने वाली कंपनियों के काम की निगरानी की कोई व्यवस्था नहीं है। इसका कोई निर्धारित मूल्य नहीं है। यह किस सामग्री से बना है, इसकी कोई सटीक व्याख्या नहीं की गई है।

E-cigarette is good for us?-ई-सिगरेट हमारे लिए अच्छा है?

E-cigarette-is-good-for-us

E-cigarette के बारे में जानने योग्य अन्य बातें हैं –

ई-तरल: ई-तरल या ई-रस। ये एक प्रकार के घोल हैं जो गर्मी पैदा करते हैं और एरोसोल में परिवर्तित हो जाते हैं। जो वाष्पित होकर छाती में प्रवेश कर जाती है।

️निकोटीन –

ई-सिगरेट और नियमित सिगरेट दोनों में निकोटीन होता है। यह मस्तिष्क की केंद्रीय नसों में उत्तेजक के रूप में कार्य करता है। यह रक्तचाप, श्वसन और हृदय गति को बढ़ाता है।

शोधकर्ता डॉ. मेस्सी गोनियोइस ने कहा, “आमतौर पर लोग निकोटीन के कारण धूम्रपान करते हैं।” वह न्यूयॉर्क में रोसवेल पार्क सेंटर में बफ़ेलो संस्थान में तंबाकू और ई-सिगरेट में माहिर हैं। ‘निकोटीन नशा पैदा करता है। लेकिन यह कैंसर का कारण नहीं है। लेकिन ई-लिक्विड में अन्य तत्व बेहद चिंताजनक हैं। ‘

️ जायके –

डॉक्टर कहते हैं कि सौ से अधिक स्वाद वाली ई-सिगरेट हैं। चेरी, चीज़केक, दालचीनी, तंबाकू आदि। ये सभी सुगंधित खाद्य पदार्थों में उपयोग किए जाते हैं। इसमें डायसेटाइल होता है। यह आमतौर पर पॉपकॉर्न की एक मक्खन जैसी गंध पैदा करता है। इस और फेफड़ों की बीमारी के बीच एक कड़ी है और यह काफी हानिकारक भी है।

️प्रोपलीन ग्लाइकोल (पीजी) –

पीजी प्रयोगशाला निर्मित तरल जो भोजन, दवा और सौंदर्य प्रसाधन के लिए सुरक्षित है। इसका उपयोग रॉक कॉन्सर्ट में कृत्रिम धुआं बनाने के लिए भी किया जाता है। यह फेफड़ों और आंखों को परेशान करता है। यह फेफड़ों के विभिन्न रोगों के लिए हानिकारक है। जैसे: अस्थमा और वातस्फीति।

️ग्लिसरीन –

यह गंधहीन और रंगहीन होता है। लिक्विड ग्लिसरीन का स्वाद ज्यादा मीठा होता है। यह विभिन्न उत्पादों में उपलब्ध है।

वाशिंग लिक्विड: ई-सिगरेट बनाने के लिए एक तरह के ई-लिक्विड का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन ये वॉश शरीर के ब्लड सर्कुलेशन को नुकसान पहुंचा सकते हैं। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, के एक प्रोफेसर का कहना है कि असली सिगरेट में ऐसा नुकसान नहीं होता है।

ई-सिगरेट में रसायन: ई-सिगरेट में फॉर्मलाडेहाइड और एसीटैल्डिहाइड नामक दो रसायन होते हैं। यह घटक ई-तरल का तापमान बढ़ाता है। दुर्भाग्य से इसके परिणामस्वरूप अधिक निकोटीन का उत्पादन होता है। इसमें मौजूद एक्रोलिन गर्म ग्लिसरीन से बना होता है। यह फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। धूम्रपान करने वालों में हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

कण और धातु –

ई-सिगरेट में एरोसोल होते हैं जो हानिकारक होते हैं। यह शरीर की नसों को नुकसान पहुंचाता है। शरीर में विभिन्न प्रकार की सूजन का कारण बनता है। और नसों पर दबाव डालता है। इसके अलावा, ई-सिगरेट के एरोसोल में विभिन्न जहरीली धातुएं पाई गई हैं। जैसे: टिन, निकल, कैडमियम, सीसा और पारा।

क्या E-cigarette या वाष्प पीना सुरक्षित है? – Is it safe to drink E-cigarette or vapours?

इस समय यह अज्ञात है कि इलिनॉय में मौतों का क्या कारण है। विशेषज्ञों को संदेह है कि इलेक्ट्रिक सिगरेट को दुर्लभ फेफड़ों की बीमारियों से जोड़ा जा सकता है।

इलेक्ट्रिक सिगरेट के सकारात्मक पक्ष पर कहा जाता है कि इलेक्ट्रिक सिगरेट सिगरेट की तुलना में ज्यादा सुरक्षित होती है। इलेक्ट्रिक सिगरेट में निकोटिन के नियंत्रित स्तर होते हैं लेकिन कैंसर पैदा करने वाले कार्सिनोजेन्स, कार्बन मोनोऑक्साइड या टार नहीं होते हैं। सिगरेट की तरह इलेक्ट्रिक सिगरेट पीने से कोई नुकसान नहीं है।

लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार, इलेक्ट्रिक सिगरेट (इलेक्ट्रिक लिक्विड) के तरल मिश्रण में प्रोपलीन ग्लाइकॉल, ग्लिसरीन, पॉलीइथाइलीन ग्लाइकॉल, विभिन्न स्वाद और निकोटीन होते हैं। जैसे ही यह गर्म होता है, ये रसायन सामान्य सिगरेट के धुएं के समान ही फॉर्मलाडेहाइड का उत्पादन करते हैं। इसके अलावा, इलेक्ट्रिक सिगरेट के धुएं में महीन रासायनिक कण होते हैं जो बेहद हानिकारक होते हैं। यह गले में खराश, मतली और पुरानी खांसी का कारण बन सकता है।

अन्य लिंक्स :-

Is Sugar bad for you – रोजाना कितने चम्मच चीनी खानी है ?

WhatsApp New Chat Transfer Feature Between iOS & Android

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here