Dussehra Essay In Hindi दशहरा पर निबंध

428
essay-on-dussehra-in-hindi
essay-on-dussehra-in-hindi

दोस्तों आज हमारा लेख हैं । यानि की दशहरा पर निबंध हिंदी में। आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। परीक्षाओं में कई बार बच्चों को दशहरा पर निबंध हिंदी में पूछ लिया जाता है। यह निबंध बहुत ही सरल भाषा में दिया गया हैं। तो यह लेख आपके लिए लिखा गया है।तो चले आज का लेख शुरू करते हैं

नमस्कार दोस्तो आप सब का हमारे ब्लॉग पर स्वागत है। यहां पर बिज़नेस ,हेल्थ ,फाइनेंस ,हिंदी essay ,तकनीक और इंटरनेट से जुडी जानकारी शेयर करते रहते हैं। अगर आप उन्हे मिस नहीं करना चाहते तो हमारे ब्लॉग की notification को bell icon दबाकर subscribe कर लें।

प्रस्तावना :-

यह हिंदुओं का एक प्रमुख त्यौहार है। इसे अश्विनी शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। जिसे विजयदशमी या दशहरा नाम से जानते है। इस पर्व का महत्व पारंपरिक और धार्मिक रुप से बहुत ज्यादा है। भारतीय लोग इसे बहुत उत्साह और भरोसे से मनाते है।ये पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत को भी प्रदर्शित करता है। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिए इस दशमी को विजयादशमी के नाम से जाना जाता है।

लोग इसे कई सारे रीति-रिवाज और पूजा-पाठ के द्वारा मनाते है। धार्मिक लोग और भक्तगढ़ पूरे दिन व्रत रखते है। कुछ लोग इसमें पहले और आखिरी दिन व्रत रखते है। तो कुछ देवी दुर्गा का आशीर्वाद और शक्ति पाने के लिये इसमें पूरे नौ दिन तक व्रत रखते है। दसवें दिन लोग असुर राजा रावण पर राम की जीत के उपलक्ष्य में दशहरा मनाते है।

( Meaning)दशहरा का अर्थ:-

शब्द दशहरा या दसेरा शब्द ‘दश'(दस) एवं ‘अहन्‌‌’ से बना है। दशहरा उत्सव की उत्पत्ति के विषय में कई कल्पनाएं की गई हैं। कुछ लोगों का मत है कि यह कृषि का उत्सव है। दशहरे का सांस्कृतिक पहलू भी है। दशहरा या विजया दशमी नवरात्रि के बाद दसवें दिन मनाया जाता है। इस दिन राम ने रावण का वध किया था।

Dussehra का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? :-

इस दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था। इस कारण भगवान राम का सम्मान करने के लिए हिंदू, उपवास, अनुष्का और समारोह रखते हैं। दशहरा दानव महिषासुर पर योद्धा देवी दुर्गा की जीत का भी प्रतीक है।

दशहरा कैसे मनाया जाता है?(How Dussehra is Celebrated?) :-

इसे मनाने के लिए जगह-जगह बड़े-बड़े मैदानों में मेलों का आयोजन किया जाता है। इस समय रामलीला का भी आयोजन होता है। इस दिन रावण, मेघनाथ और कुंभकरण का विशाल पुतला बनाकर उसे जलाया जाता है। इस पुतले में पटाखे भी भर दिए जाते हैं।इस दिन लोग अपने घरों में पूजा अर्चना करते हैं। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। रामलीला का दशहरा समारोह के दौरान एक अनूठी विशेषता है। जहां रामायण की कहानीयाँ, तथा राम और रावण के बीच का अभिनय किया जाता है।दशहरे के दिन विद्यालयों और दफ्तरों में अवकाश रहता है। लोग इस पर्व को ढेर सारी खुशियां और उत्साह के साथ मनाते हैं।

पर्व का महत्व :-

Dussehra का पर्व हर एक के जीवन में बहुत महत्व है। यह दिखाता है कि बुराई चाहे कितनी भी बड़ी हो कितनी भी शक्तिशाली हो हमेशा अच्छाई की जीत होती है। बुराई को हमेशा अच्छाई से हारना ही पड़ता है। इस दिन लोग अपने अंदर की भी बुराइयों को ख़त्म करके नई जीवन की शुरुआत करते है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत की ख़ुशी में मनाया जाने वाला त्यौहार है। दशहरा त्यौहार जश्न के रूप में मनाया जाने वाला त्यौहार है।

सबकी जश्न की अपनी मान्यता है किसानों के लिए फसल को घर लाने का जश्न, बच्चों के लिए राम द्वारा रावण के वध का जश्न , बड़ो द्वारा बुराई पर अच्छाई का जश्न, आदि। यह पर्व बहुत ही शुभ और पवित्र माना जाता है। लोगों का मानना है की इस दिन अगर स्वामी के पत्तों को घर लाये जाए तो बहुत ही शुभ होता है और इस दिन शुरू किये गए कार्य में जरूर सफलता मिलती है।

Dussehra पर्व पर मेले :-

पर्व से दस दिन पहले से रामलीलाओं का प्रदर्शन किया जाता है। दशहरे का महत्त्व रामलीलाओं के कारण सुविख्यात है। भारत के हर शहर एवं गाँव में रामलीला दिखाई जाती है। दशहरा पर्व को मनाने के लिए जगह-जगह बड़े मेलों का आयोजन किया जाता है। यहां लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ आते हैं। और खुले आसमान के नीचे मेले का पूरा आनंद लेते हैं। मेले में तरह-तरह की वस्तुएं, चूड़ियों से लेकर खिलौने और कपड़े बेचे जाते हैं। इसके साथ ही मेले में व्यंजनों की भी भरमार रहती है।

उपसंहार :-

इस त्यौहार से हमें यह शिक्षा मिलती है कि चाहे बुराई जितने भी बड़ी हो जितनी भी शक्तिशाली हो वह कभी अच्छाई से नहीं जीत सकता अर्थात हमेशा अच्छाई की जीत होती है। ये 10 दिन लंबा उत्सव होता है। जिसमें से नौ दिन देवी दुर्गा की पूजा के लिये और दसवाँ दिन विजयादशमी के रुप में मनाया जाता है। इस दिन श्री राम ने बुराई के प्रतीक रावण का वध किया था। अतः हमें भी अपनी बुराइयों को त्यागकर अच्छाइयों को ग्रहण करना चाहिए तभी यह दिन सार्थक सिद्ध होगा।

Conclusion :-

दोस्तो आज के लिए बस इतना ही। उम्मीद करते हैं की आपको हमारा लेख पसंद आया होगा। जिसमे हमने आपको बताया है की In Hindi दशहरा पर निबंध। इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। कुछ पूछना हो तो comments में पूछ सकते हैं। इस तरह की और updates के लिए आप notification subscribe कर सकते है।

अन्य लिंक्स :-

How To Increase Platelets Count प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपाय

How To Disconnect Your Instagram Account From Facebook

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here