Car Insurance आपके कार इंश्योरेंस क्लैम के रिजेक्ट होने के क्या कारण हैं?कैसे बचे?

452
Car Insurance
Car Insurance

आपके कार इंश्योरेंस क्लैम को रिजेक्ट क्यों किया जाता है?()कार इंश्योरेंस क्लैम के रिजेक्ट होने के कारण( , , Insurance)

दोस्तों आज हम बात करेंगे Car Insurance के बारे में। Car Insurance आपके कार इंश्योरेंस क्लैम को रिजेक्ट क्यों किया जाता है?कार इंश्योरेंस क्लैम के रिजेक्ट होने के कारण क्या हैं ?हम आपको बता देना चाहते हैं की हमारे देश में थर्ड पार्टी कार Insurance लेना जरुरी होता हैं। जब हमारी कार की कोई दुर्घटना हो जाती हैं। और हम Car Insurance क्लेम करते हैं तो ,कई बार इसे रिजेक्ट कर दिया जाता हैं। आइये जानते हैं की ऐसा क्यों किया जाता हैं ……..

Car Insurance करने का फायदा

आपको कार Insurance न सिर्फ किसी भी तरह की दुर्घटना, चोरी और क्षति से संबंधित खर्चों को कवर करता है बल्कि यह आपको आर्थिक रूप से भी सुरक्षित रखता है। जब आप कोई कार बीमा पॉलिसी लेते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप दावा खारिज किए जाने की शर्तों सहित अन्य नियमों और शर्तों से अवगत हैं।क्योंकि दावा मंजूर न होना आर्थिक रूप से भी तनावपूर्ण हो सकता है।

Car Insurance क्लैम के रिजेक्ट होने के कारण(why does your car insurance claim can rejected):-

अगर आप Car Insurance renewal को Car Insurance Online करना चाहते हैं तो बहुत सी वेबसाइट बाजार में हैं जैसे आदि। लेकिन पॉलिसी का रिन्युअल करने से पहले टर्म एंड कंडीशन जरूर ध्यान से पढ़ ले ……..

पॉलिसी का रिन्युअल ना कराना :-

हम अपने काम में इतने व्यस्त हो जाते हैं की , ये ध्यान ही नहीं रहता की हमारी गाड़ी की पॉलिसी अवधि की समाप्ति हो गयी हैं। और हमे इसे रिन्यू करना जरूरी है।क्योंकि पॉलिसी का निरंतर लाभ लेने के लिए, हर साल अपनी पॉलिसी को रिन्यू करना जरूरी होता है।नहीं तो बीमा कंपनी आपके दावे को इस आधार पर खारिज कर देगी कि आपका पॉलिसी अवधि समाप्त हो गया है। एक पॉलिसी की अवधि समाप्त हो जाने पर उसके लिए किये गये क्लेम पर विचार नहीं किया जाता है।

नशा करके गाड़ी चलना :-

हमारे देश में शराब पीना कोई जुर्म नहीं हैं। मगर शराब पीकर गाड़ी चलना एक क़ानूनी जुर्म हैं। ऐसा करने पर आपको सजा भी हो सकती हैं। अगर ये साबित हो जाता हैं की आप दुर्घटना के समय शराब पीकर गाड़ी चला रहे थे , तो आपका क्लेम के दावे पर बीमा कंपनी दुवारा विचार नहीं किया जाता है।आपके दावे को इस आधार पर खारिज कर दिया जाता हैं।

Car Insurance

ड्राइविंग लाइसेंस के बिना गाड़ी चलना :-

बिना ड्राइविंग लाइसेंस के गाड़ी चलना भी एक क़ानूनी जुर्म हैं।अगर ये साबित हो जाता हैं की , दुर्घटना के समय गाड़ी चलने वाले के पास एक सही ड्राइविंग लाइसेंस नहीं था। तो भी बीमा कंपनी आपके दावे को इस आधार पर खारिज कर देगी। Car Insurance क्लेम खारिज होने का ये सबसे आम कारण हैं।

दुर्घटना के बारे में समय से सूचित नहीं करना :-

बीमा कंपनियां का पॉलिसी होता हैं की दुर्घटना की सुचना सबसे पहले उनको दिया जाये। इसके बाद ही गाड़ी को ठीक करवाने के लिए ले जाया जाये। इसलिए जैसे ही कोई दुर्घटना होती है, उसकी सूचना जल्द से जल्द दी जाए।अगर आप अपना क्लेम दर्ज करने में काफी देर करते हैं और निर्धारित समयावधि में बीमा कंपनी के पास सभी आवश्यकत दस्तावेज जमा नहीं कराते, तो आपका क्लेम को बीमा कंपनी खारिज कर सकता है।

Car में बदलाव करना और एक्सेसरीज लगाना :-

अगर आपने बीमा पॉलिसी का रिन्युअल करने के बाद गाड़ी में कोई नया बदलाव किया है। और नया एक्सेसरीज लगवाया हैं , तो इसका विवरण बीमा कंपनी को देना बहुत ही ज्यादा जरुरी हैं। इसके बाद ही इनको नई पॉलिसी में शामिल किया जाएगा। अगर आप अपनी बीमा कंपनी को अतिरिक्त एक्सेसरीज के बारे में सूचित नहीं करते हैं, तो क्षतिग्रस्त एक्सेसरीज के लिए आपका क्लेम को बीमा कंपनी खारिज कर देता हैं।

निजी वाहन का गलत तरीके से इस्तेमाल :-

अगर आप अपने निजी वाहन का उपयोग व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए कर रहे हैं तो आपका बीमा दावा खारिज हो सकता है। व्यावसायिक वाहनों के बीमा नियम अलग होते हैं।इसलिए अपनी गाड़ी का इस्तेमाल सही तरीके से करे।

Car का दुर्घटना देश से बहार होना :-

बीमा कंपनी सिर्फ देश की भौगोलिक सीमा के अंदर ही बीमा कवरेज देती हैं। अगर दुर्घटना देश से बहार होता हैं तो बीमा कंपनी इसे कवर नहीं करती हैं।

Car में सामान्य टूट-फूट का होना :-

जैसे कार का टायर पेंचर होना ,टायर घिसना ,टायर फटना ,पेंट उतर जाना आदि को सामान्य टूट-फूट के रूप में वर्णित किया जाता है। बीमा कंपनियों द्वारा दावों के लिए इन पर विचार नहीं किया जाता है।

ओनरशिप का ट्रांसफर नहीं होना :-

आपने बीमा पॉलिसी का रिन्युअल करने के बाद गाड़ी को ख़रीदा हैं ,और ओनरशिप का ट्रांसफर नहीं करवाया हैं। इस कारण से भी आपका क्लेम को बीमा कंपनी खारिज कर देता हैं। इसलिए ओनरशिप का ट्रांसफर जल्दी से जल्दी करवा लेना जरुरी होता हैं।

FAQ

Q. Car Insurance पॉलिसी लेना क्या जरुरी होता हैं?
Ans. हमारे देश में थर्ड पार्टी कार Insurance लेना जरुरी होता हैं।

Q. क्या बीमा कंपनी सामान्य टूट-फूट को कवर करती हैं ?
Ans. नहीं ,बीमा कंपनी सामान्य टूट-फूट को कवर नहीं करती हैं।

Q. Car Insurance पॉलिसी लेने का क्या फायदा होता हैं ?
Ans. यह आपको आर्थिक रूप से भी सुरक्षित रखता है।

अन्य लिंक्स :-

Chashma (चश्मा) हटाने का उपाय Home Remedies To Remove Glass In Hindi

Neeraj Chopra Biography, Javelin Throw In Hindi

World’s New smallest 4G smartphone

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here